Monday, January 9, 2012

English to Punjabi Translator



Punjabi is wide spread spoken language in India,Pakistan,Canada and other parts of the world. Every where Punjabi speakers are abiding in the world.So Punjabi has been uprising as official language of many states. Punjabi has All Translation Services specializes in providing high quality English to Punjabi and Punjabi to English translation services for personal and for business use. Our extensive network of professional Punjabi translators means that translations from English to Punjabi are one of our most specialized services.
Get Professional Services From Well-Trained Punjabi Translators
We offer high quality English to Punjabi translation and Punjabi to English translation services. Whether you have Punjabi documents that need accurate English translation or you have English documents, which require fast and reliable Punjabi translations, we can assign a Punjabi translator or English translator for you, depending on your needs.
It doesn't matter whether you require a Punjabi to English translation, or vice versa. We can provide you both English to Punjabi and Punjabi to English translation services. In fact, hundreds of companies have placed their trust in us, knowing that we can get their translations right the first time.


English to Punjabi Translation
Punjabi translation services are respected for quality, tight turnarounds and our experience in a variety of technical media.  we specialises in both Punjabi to English and English to Punjabi translation.
Our English/Punjabi translation expertise includes, but is not limited to; tenant information, information leaflets, health and safety information and websites.


If you have a translation project, request a quote or contact us now.
Feel free to contact from 9 am to 12 pm anytime


Email toneyahuja@hotmail.com
Contact info:  toneyahuja@gmail.com
skype id : toneyahuja13 
Punjab




we are regularly approached by housing associations and public sector bodies who require Punjabi translations of public information, legal documents and general correspondence. Punjabi is said to be the second most commonly used language in the UK, spoken by approximately 1.3 million people in the UK. Due to the colonial relationship between Britain and India many Punjabi speakers have migrated to the UK in the last fifty years. Although many of these people have now had children and a large second generation community has integrated into British society, Punjabi is still widely spoken. The most effective method of communicating with the Punjabi community is in their mother tongue. we have mother tongue translator for English to Punjabi Translation.
translation direcotry id :- 
http://www.translationdirectory.com/translators/english_punjabi/toney_ahuja.php
If you have a document that requires translation from English to Punjabi, English to hindi or hindi to punjabi ,Punjabi to Hindi request a quote or contact on my skype or gmail id any time.
http://www.proz.com/profile/1478128

Hindi To Punjabi and English to Punjabi Translators



ENGLISH TO PUNJABI TRANSLATORS
PUNJABI TO  HINDI TRANSLATORS     
HINDI TO  PUNJABI TRANSLATORS    

We have been providing our services for one year.
We provide you translation in all types of fonts what you want.
We are expert in English to Punjabi, English to Hindi , Hindi to Punjabi and Punjabi to Hindi translation. 
We can work in Unicode and other fonts as per your demand.
ATZ has an efficient team of translators for this work. 
We are Committed to work Better with our clients We have completed lot of work efficiently and doing continuously. 
Some of our work has given below:

·        800 words translation in Unicode(English to Punjabi)  on Sikh United wins documents through odesk as freelancer translator.
·        5000 words translation in Unicode(English to Punjabi)  on Insurance project through odesk as freelancer translator.
·        35000 words translation already done for cerebroidmedia  in science, Maths and Social Studies topics.
·        30000 words project translation in Unicode(English to Punjabi)on child care sms translation for anujmd
·        2000 WORDS  words project translation in Unicode(Hindi to Punjabi)on   Education IVR  for  cerebroidmedia  
 

English to Punjabi Translation sample

The world is changing every day at a rapid pace, becoming more globalized, more connected, more wired. People’s lives and work situations continue to evolve. For instance, more and more people are working from home and need access to a different kind of pension plan.
ਸੰਸਾਰ ਪ੍ਰਤੀਦਿਨ ਤੇਜ਼ੀ ਨਾਲ ਬਦਲ ਰਿਹਾ ਹੈ, ਜ਼ਿਆਦਾ ਵਿਸ਼ਵੀਕ੍ਰਿਤ, ਜ਼ਿਆਦਾ ਜੁੜਵਾਂ, ਜ਼ਿਆਦਾ ਤਾਰਾਂ ਨਾਲ ਜੁੜਿਆ। ਲੋਕਾਂ ਦੀਆਂ ਜ਼ਿੰਦਗੀਆਂ ਅਤੇ ਕੰਮ ਕਰਨ ਦੀਆਂ ਸਥਿਤੀਆਂ ਦੀ ਤਿਆਰੀ ਜਾਰੀ ਹੈ। ਉਦਾਹਰਣ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਜ਼ਿਆਦਾ ਤੋਂ ਜ਼ਿਆਦਾ ਲੋਕ ਘਰ ਬੈਠੇ ਕੰਮ ਕਰ ਰਹੇ ਹਨ ਅਤੇ ਉਹਨਾਂ ਲਈ ਵੱਖਰੀ ਤਰ੍ਹਾਂ ਦੇ ਪੈਨਸ਼ਨ ਪਲਾਨ ਦੀ ਜ਼ਰੂਰਤ ਹੈ


That’s where XXX steps in. Our plan offers unlimited income potential in an extremely supportive network managed by financial professionals from around the world, including accountants, auditors, business and legal consultants.
ਇਹੀ ਕਾਰਨ ਹੈ ਜਿੱਥੇ XXX ਕਦਮ ਵਿੱਚ। ਸਾਡੀ ਯੋਜਨਾ ਇੱਕ ਅਤਿਅੰਤ ਸਹਾਇਕ ਲੇਖਾਕਾਰ, ਲੇਖਾ ਨਿਰੀਖਕਾਂ, ਵਪਾਰ ਅਤੇ ਕਾਨੂੰਨੀ ਸਲਾਹਕਾਰਾਂ ਸਹਿਤ ਦੁਨੀਆਂ ਭਰ ਤੋਂ ਵਿੱਤੀ ਪੇਸ਼ੇਵਰਾਂ ਦੁਆਰਾ ਪ੍ਰਬੰਧਿਤ ਜਾਲ ਵਿੱਚ ਆਮਦਨ ਸਮਰੱਥਾ ਪ੍ਰਦਾਨ ਕਰਦੀ ਹੈ।

samples of English to punjabi Translation

XXX is not licensed or registered in any country or by any government agency as a securities dealer, broker or investment advisor. The information on this site is not related to any type of security trading.
XXX  ਕਿਸੇ ਦੇਸ਼ ਜਾਂ ਕਿਸੇ ਸਰਕਾਰੀ ਏਜੰਸੀ ਦੁਆਰਾ ਸਾਖ ਪੱਤਰ ਡੀਲਰ ਦੇ ਰੂਪ ਵਿੱਚ ਪ੍ਰਮਾਣਿਤ ਜਾਂ ਪੰਜੀਕ੍ਰਿਤ, ਦਲਾਲ ਜਾਂ ਨਿਵੇਸ਼ ਸਲਾਹਾਕਾਰ ਨਹੀਂ ਹੈ। ਸਾਈਟ ਤੇ ਦਿੱਤੀ ਗਈ ਸੂਚਨਾ ਕਿਸੇ ਸੁਰੱਖਿਆ ਵਪਾਰ ਸਬੰਧੀ ਨਹੀਂ ਹੈ।
Therefore, this information is not intended to be, nor is it to be construed as, an offer to sell securities, any product similar to a "security offering", or a solicitation of any offer concerning the information described.

ਇਸ ਲਈ, ਇਹ ਸੂਚਨਾ ਕਿਸੇ ਦਿਖਾਵੇ ਲਈ, ਜਾਂ ਸਾਖ-ਪੱਤਰ ਦੀ ਵਿਕਰੀ ਬਾਰੇ ਵਿਆਖਿਆ, ਸੁਰੱਖਿਆ ਪੇਸ਼ਕਸ਼ ਦੇ ਵਾਂਗ ਕੋਈ ਉਤਪਾਦ, ਜਾਂ ਕਿਸੇ ਵਰਣਿਤ ਜਾਣਕਾਰੀ ਦੀ ਪੇਸ਼ਕਸ਼ ਬਾਰੇ ਬੇਨਤੀ ਨਹੀਂ ਹੈ।
The details contained herein are for informational purposes only, and thus are subject to error and/or amendment, and are provided as a courtesy at the request of the recipient.
This information has not been approved by the Securities and Exchange Commission of any country or by any other government agency, nor has such Commission or any government agency examined the merits of this information or the accuracy or completeness of such.
ਇੱਥੇ ਦਿੱਤਾ ਵੇਰਵਾ ਕੇਵਲ ਸੂਚਨਾਤਮਕ ਉਦੇਸ਼ ਲਈ ਹੈ, ਅਤੇ ਇਸ ਤਰ੍ਹਾਂ ਅਸ਼ੁੱਧੀ ਜਾਂ ਸੋਧ ਦੇ ਵਿਸ਼ੇ ਅਤੇ ਪ੍ਰਾਪਤਕਰਤਾ ਦੀ ਅਰਜ਼ੀ ਤੇ ਨਿਮਰਤਾ ਸਹਿਤ ਦਿੱਤੇ ਗਏ ਹਨ। ਇਹ ਸੂਚਨਾ ਕਿਸੇ ਦੇਸ਼ ਦੇ ਸਾਖ ਪੱਤਰ ਅਤੇ ਆਦਾਨ-ਪ੍ਰਦਾਨ ਆਯੋਗ ਦੁਆਰਾ ਜਾਂ ਕਿਸੇ ਸਰਕਾਰੀ ਅਦਾਰੇ ਦੁਆਰਾ ਮਨਜ਼ੂਰਸ਼ੁਦਾ ਨਹੀਂ ਹੈ ਅਤੇ ਨਾ ਹੀ ਕੋਈ ਆਯੋਗ ਜਾਂ ਕੋਈ ਸਰਕਾਰੀ ਅਦਾਰੇ ਦੁਆਰਾ ਇਸ ਸੂਚਨਾ ਦੇ ਗੁਣ ਜਾਂ ਸ਼ੁੱਧਤਾ ਜਾ ਪੂਰਨਤਾ ਜਾਂਚੀ ਗਈ ਹੈ


Learn some Hindi Tips


Hindi is an Indo-Aryan language with about 487 million speakers. It is one of the official languages of India and is the main language used in the northern states of Rajasthan, Delhi, Haryana, Uttarakhand, Uttar Pradesh, Madhya Pradesh, Chhattisgarh, Himachal Pradesh, Jharkhand and Bihar, and is spoken in much of north and central India alongside other languages such as Punjabi, Gujarati, Marathi or Bengali. In other parts of India, as well as in Nepal, Bangladesh and Pakistan, Hindi is understood. In Fiji people of Indian origin speak Hindi, and in some areas the Fijian people also speak it.
Hindi is closely related to Urdu, the main language of Pakistan, which is written with the Arabic script, and linguists consider Standard Hindi and Standard Urdu to be different formal registers both derived from the Khari Boli dialect, which is also known as Hindustani. Apart from the difference in writing systems, the other main difference between Hindi and Urdu is that Hindi contains more vocabulary from Sanskrit, while Urdu contains more vocabulary from Persian. At an informal spoken level there are few significant differences between Urdu and Hindi and they could be considered varieties a single language.
Hindi first started to be used in writing during the 4th century AD. It was originally written with the Brahmi script but since the 11th century AD it has been written with the Devanāgarī alphabet. The first printed book in Hindi was John Gilchrist'sGrammar of the Hindoostanee Language which was published in 1796.

Devanāgarī alphabet for Hindi

Vowels (स्वर) and vowel diacritics

Hindi vowels and vowel diacritics

Consonants (व्यंजन)

Hindi consonants

Numerals

Hindi numerals and numbers from 0-10

Downloads

Sample text in Hindi

Sample text in Hindi
Transliteration
Sarbhī manuṣyōn̐ kō gaurav aur adhikārōn̐ kē māmalē mēn̐ janmajāt svatantratā aur samānatā prāpt hai. Unhēn̐ buḍhi aur antarātmā kī dēn hai aur paraspar unēn̐ bhāīcārē kē bhāv sē bartāv karanā cāhiyē.

Translation

All human beings are born free and equal in dignity and rights. They are endowed with reason and conscience and should act towards one another in a spirit of brotherhood.
(Article 1 of the Universal Declaration of Human Rights)
Thanks to Arvind Iyengar for providing the above sample text.

Friday, January 6, 2012

Script Writing in Hindi


१. दीवाली (दीपावली)
चौदह वर्षका वनवास समाप्त कर जब श्रीरामप्रभु अयोध्या लौटे, तब प्रजाने दीपोत्सव मनाया । तबसे दीपावली उत्सव मनाया जाता है । दीपावली शब्द दीप   आवली (पंक्ति, कतार) इस प्रकार बना है । इसका अर्थ है, दीपोंकी पंक्ति अथवा कतार । दीपावलीके दिन सर्वत्र दीप लगाए जाते हैं । कार्तिक कृष्ण त्रयोदशी (धनत्रयोदशी / धनतेरस), कार्तिक कृष्ण चतुर्दशी (नरकचतुर्दशी), अमावस्या (लक्ष्मीपूजन) व कार्तिक शुक्ल प्रतिपदा (बलिप्रतिपदा) ये चार दिन दीपावली मनाई जाती है । कुछ लोग त्रयोदशीको दीपावलीमें सम्मिलित न कर, शेष तीन दिनोंकी ही दीवाली मनाते हैं । वसुबारस व भैयादूजके दिन दीपावलीके साथ ही आते हैं, इसी कारण इनका समावेश दीपावलीमें किया जाता है; परंतु वास्तवमें ये त्यौहार भिन्न हैं ।
१.१. कार्तिक कृष्ण त्रयोदशी (धनत्रयोदशी)
इसीको बोली भाषामें धनतेरस कहा जाता है । इस दिन व्यापारी तिजोरीका पूजन करते हैं । व्यापारी वर्ष, दीवालीसे दीवालीतक होता है । नए वर्षके हिसाबकी बहियां इसी दिन लाते हैं । आयुर्वेदकी दृष्टिसे यह दिन धन्वंतरि जयंतीका है । वैद्य मंडली इस दिन धन्वंतरि (देवताओंके वैद्य) का पूजन करते हैं । लोगोंको नीमके पत्तोंके छोटे टुकडे व शक्कर प्रसादके रूपमें बांटते हैं । इसका गहरा अर्थ है । नीमकी उत्पत्ति अमृतसे हुई है । इससे प्रतीत होता है, कि धन्वंतरि अमृतत्वका दाता है ।
१.२ यमदीपदान
यमराजका कार्य है प्राण हरण करना । कालमृत्युसे कोई नहीं बचता और न ही वह टल सकती है; परंतु `किसीको भी अकाल मृत्यु न आए', इस हेतु धनत्रयोदशीपर यमधर्मके उद्देश्यसे गेहूंके आटेसे बने तेलयुक्त (तेरह) दीप संध्याकालके समय घरके बाहर दक्षिणाभिमुख लगाएं । सामान्यत: दीपोंको कभी दक्षिणाभिमुख नहीं रखते, केवल इसी दिन इस प्रकार रखते हैं । आगे दी गई प्रर्थना करें - `ये तेरह दीप मैं सूर्यपुत्रको अर्पण करता हूं । वे मृत्युके पाशसे मुझे मुक्त करें व मेरा कल्याण करें ।'
१.३ नरकचतुर्दशी (कार्तिक कृष्ण चतुर्दशी)
श्रीमद्‌भागवतपुराणमें ऐसी एक कथा है - नरकासुरका अंत कर कृष्णने सर्व राजकुमारियोंको मुक्त किया । मरते समय नरकासुरने कृष्णसे वर मांगा, कि `आजके दिन मंगलस्नान करनेवाला नरककी पीडासे बच जाए ।' कृष्णने उसे तदनुसार वर दिया । इस कारण कार्तिक कृष्ण चतुर्दशीको नरकासुर चतुर्दशीके नामसे मानने लगे व इस दिन लोग सूर्योदयसे पूर्व अभ्यंगस्नान करने लगे ।
१.४ त्यौहार मनानेकी पद्धति
·         आकाशमें तारोंके रहते, ब्राह्ममुहूर्तपर अभ्यंग (पवित्र) स्नान करते हैं ।
·         यमतर्पण : अभ्यंगस्नानके पश्चात् अपमृत्युके निवारण हेतु यमतर्पणकी विधि बताई गई है । तदुपरांत माता पुत्रोंकी आरती उतारती हैं ।
·         दोपहरमें ब्राह्मणभोजन व वस्त्रदान करते हैं ।
·         प्रदोषकालमें दीपदान, प्रदोषपूजा व शिवपूजा करते हैं ।
१.५ कार्तिक अमावस्या (लक्ष्मीपूजन)
सामान्यत: अमावस्या अशुभ मानी जाती है; यह नियम इस अमावस्यापर लागू नहीं होता है । इस दिन `प्रात:कालमें मंगलस्नान कर देवपूजा, दोपहरमें पार्वणश्राद्ध व ब्राह्मणभोजन एवं संध्याकालमें (प्रदोषकालमें) फूल-पत्तोंसे सुशोभित मंडपमें लक्ष्मी, विष्णु इत्यादि देवता व कुबेरकी पूजा, यह इस दिनकी विधि है ।
लक्ष्मीपूजन करते समय एक चौकीपर अक्षतसे अष्टदल कमल अथवा स्वस्तिक बनाकर उसपर लक्ष्मीकी मूर्तिकी स्थापना करते हैं । लक्ष्मीके समीप ही कलशपर कुबेरकी प्रतिमा रखते हैं । उसके पश्चात् लक्ष्मी इत्यादि देवताओंको लौंग, इलायची व शक्कर डालकर तैयार किए गए गायके दूधसे बने खोयेका नैवेद्य चढाते हैं । धनिया, गुड, चावलकी खीलें, बताशा इत्यादि पदार्थ लक्ष्मीको चढाकर तत्पश्चात् आप्तेष्टोंमें बांटते हैं । ब्राह्मणोंको व अन्य क्षुधापीडितोंको भोजन करवाते हैं । रातमें जागरण करते हैं । पुराणोंमें कहा गया है, कि कार्तिक अमावस्याकी रात लक्ष्मी सर्वत्र संचार करती हैं व अपने निवासके लिए योग्य स्थान ढूंढने लगती हैं । जहां स्वच्छता, शोभा व रसिकता दिखती है, वहां तो वह आकर्षित होती ही हैं; इसके अतिरिक्त जिस घरमें चारित्रिक, कर्तव्यदक्ष, संयमी, धर्मनिष्ठ, देवभक्त व क्षमाशील पुरुष एवं गुणवती व पतिकाता स्त्रियां निवास करती हैं, ऐसे घरमें वास करना लक्ष्मीको भाता है ।
१.६ बलिप्रतिपदा (कार्तिक शुक्ल प्रतिपदा)
यह साढेतीन मुहूर्तोंमेंसे अर्द्ध मुहूर्त है । इसे विक्रम संवत्के वर्षारंभदिनके रूपमें मनाया जाता है ।
बलिप्रतिपदाके दिन जमीनपर पंचरंगी रंगोलीद्वारा बलि व उनकी पत्नी विंध्यावलीके चित्र बनाकर उनकी पूजा करनी चाहिए, उन्हें मांस-मदिराका नैवेद्य दिखाना चाहिए । इसके पश्चात् बलिप्रीत्यर्थ दीप व वस्त्रका दान करना चाहिए । इस दिन प्रात:काल अभ्यंगस्नान करनेके उपरांत स्त्रियां अपने पतिकी आरती उतारती हैं । दोपहरमें ब्राह्मणभोजन व मिष्टान्नयुक्त भोजन बनाती हैं । इस दिन गोवर्धनपूजा करनेकी प्रथा है । गोबरका पर्वत बनाकर उसपर दूर्वा व पुष्प डालते हैं व इनके समीप कृष्ण, ग्वाले, इंद्र, गाएं, बछडोंके चित्र सजाकर उनकी भी पूजा करते हैं ।
१.७ भैयादूज (यमद्वितीया, कार्तिक शुक्ल द्वितीया)
·         अपमृत्युको टालने हेतु धनत्रयोदशी, नरकचतुर्दशी व यमद्वितीयाके दिन मृत्युके देवता, यमधर्मका पूजन कर उनके चौदह नामोंका तर्पण करनेके लिए कहा गया है । इससे अपमृत्यु नहीं आती । अपमृत्यु निवारणके लिए `श्री यमधर्मप्रीत्यर्थं यमतर्पणं करिष्ये' । ऐसा संकल्प कर तर्पण करना चाहिए ।
·         इस दिन यमराज अपनी बहन यमुनाके घर भोजन करने जाते हैं व उस दिन नरकमें सड रहे जीवोंको वह उस दिनके लिए मुक्त करते हैं ।
 इस दिन किसी भी पुरुषको अपने घरपर या अपनी पत्नीके हाथका अन्न नहीं खाना चाहिए । इस दिन उसे अपनी बहनके घर वस्त्र, गहने इत्यादि लेकर जाना चाहिए व उसके घर भोजन करना चाहिए । ऐसे बताया गया है, कि सगी बहन न हो तो किसी भी बहनके पास या अन्य किसी भी स्त्रीको बहन मानकर उसके यहां भोजन करना चाहिए । किसी स्त्रीका भाई न हो, तो वह किसी भी पुरुषको भाई मानकर उसकी आरती उतारे । यदि ऐसा संभव न हो, तो चंद्रमाको भाई मानकर आरती उतारते हैं ।
२. हिंदुओं, पटाखे न जलाकर, धर्माचरण करो !
वर्तमानमें हिंदुओंके देवताओंके नामकोंका व उनके चित्रोंका उपयोग उत्पादों तथा उनकी विज्ञप्तिके लिए किया जाता है । दिवालीके संदर्भमें इसका उदाहरण देना हो, तो पटाखोंके आवरणपर प्राय: लक्ष्मीमाता तथा अन्य देवताका चित्र होता है । देवताओंके चित्रवाले पटाखे जलानेसे उस देवताके चित्रके चिथडे उछलते हैं और वे चित्र पैरोंतले रौंदे जाते हैं । यह देवता, धर्म व संस्कृतिकी घोर विडंबना है । देवता व धर्मकी विडंबना रोकनेके लिए प्रयास करना ही खरा लक्ष्मीपूजन है ।
३. रंगोली
 मूल संस्कृत शब्द रंगवल्ली । विशेष शुभ्र चूर्णको चुटकीमें भर उससे जमीनपर बनाई गई रेखांकित आकृतियोंको रंगोली कहते हैं । रंगोली बनानेकी कला मूर्तिकला व चित्रकलाके पूर्वकी है । किसी भी धार्मिक अथवा मंगलकार्यमें रंगोली आवश्यक एवं प्राथमिक विषय है । दीपावलीके त्योहारपर द्वारके सामने व आंगनमें विविध प्रकारकी रंगोली बनाकर उनमें विविध रंग भरते हैं ।

Thursday, December 8, 2011

Hindi Writing Samples


जब से भारत ने स्वतंत्रता हासिल की है, शिक्षा विशेष महत्व का क्षेत्र रहा है। देश में शिक्षा के लिए वर्ष 2010 को मील के पत्थर के रूप में याद किया जाएगा। संविधान (86वें संशोधन) के अधिनियम 2002 के परिणामी विधान प्रतिनिधित्व के लिए बच्चों को मुफ्त और अनिवार्य शिक्षा (आरटीई) अधिनियम, 2009 (बाहरी वेबसाइट जो एक नई विंडों में खुलती हैं) को 1 अप्रैल 2010 से लागू किया गया। आरटीई अधिनियम प्राथमिक शिक्षा पूरी होने तक पड़ोस के विद्यालय में बच्चों के लिए मुफ्त एवं अनिवार्य शिक्षा का अधिकार सुनिश्चित करता है।

भारत में प्रारम्भिक शिक्षा को विनियमित करने के लिए सरकार ने नवम्बनर 1994 में जिला प्राथमिक शिक्षा कार्यक्रम की शुरुआत की, इस कार्यक्रम का लक्ष्यल जिला विशिष्ट् आयोजना के जरिए यूईई को हासिल करने के लिए कार्यनीतियों को प्रचालन करना तथा लक्ष्य कार्यनीतियों को प्रचालन करना तथा लक्ष्य निर्धारण पर अमल करना है।

अनिवार्य प्रारम्भिक शिक्षा के लिए, विशेष कर बालिकाओं के लिए अन्य‍ कार्यक्रम हैं, कस्तूररबा गांधी शिक्षा योजना का उद्देश्या उन सभी जिलों में लड़कियों के लिए रिहायशी विद्यालयों की स्थागपना करना हैं जिनमें विशेष रुप से निम्नं महिला साक्षरता दर है। राष्ट्रीय बाल भवन (बाहरी वेबसाइट जो एक नई विंडों में खुलती हैं) जैसी संस्था एं बच्चोंप को अपनी पसंद के अनुसार गतिविधियों का परिशीलन करने तथा इस प्रकार अपनी सृजनात्मथक क्षमता को बढ़ाने के लिए प्रोत्सागहन देती हैं। अधिकाधिक बच्चोंइ (और माता पिता) को साक्षरता की ओर आकृष्ट‍ करने के उद्देश्य। से सर्व शिक्षा अभियान (बाहरी वेबसाइट जो एक नई विंडों में खुलती हैं) तथा मध्याकह्न भोजन योजना (बाहरी वेबसाइट जो एक नई विंडों में खुलती हैं) जैसे अन्या कार्यक्रम शुरू किए गए हैं।

आरटीई अधिनियम 2009 (बाहरी वेबसाइट जो एक नई विंडों में खुलती हैं) छात्र-शिक्षक अनुपात, इमारत और बुनियादी सुविधा, स्कूल और शिक्षकों के कार्य दिवस से संबंधित मानदंड और मानक सुनिश्चित करता है।